सीएम ने लिया अल्मोड़ा संसदीय सीट का जायजा, कहा- माह में 2 बार हो विकास कार्यों की समीक्षा

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि जिलों में जन समस्याओं के समाधान में किसी भी प्रकार की शिथिलता सहन नहीं की जाएगी।
पत्रावलियों के निराकरण में अनावश्यक विलंब नहीं होना चाहिए। इनमें अनावश्यक अनापत्ति लगाने से बचा जाए। उन्होंने जिलाधिकारियों को महीने में दो बार विकास कार्यों की समीक्षा करने के निर्देश दिए। धामी ने कहा कि मुख्यमंत्री घोषणाओं और स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर बनाने के लिए अलग से समीक्षा की जाएगी।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैंप कार्यालय में अल्मोड़ा संसदीय सीट के अंतर्गत 14 विधानसभा क्षेत्रों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि विधायकों के माध्यम से प्राप्त होने वाले प्रस्तावों को शासन में भेजने के बाद उनमें होने वाली कार्य प्रगति का जिलाधिकारी नियमित अपडेट लें।
जन समस्याओं के तीव्रता से समाधान के लिए जन प्रतिनिधियों एवं अधिकारियों के मध्य निरंतर संवाद रहना चाहिए। विधानसभा क्षेत्रवार जनहित के कार्यों की समीक्षा का यही उद्देश्य है। अधिकतर जन समस्याओं का समाधान जिला स्तर पर होना चाहिए। आवश्यकता पडऩे पर ही समस्याओं को मंडल एवं शासन स्तर पर भेजा जाना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विषम भौगोलिक परिस्थितियों के कारण अलग-अलग क्षेत्रों की समस्याएं अलग-अलग हैं। उन्होंने कहा कि मानसखंड कारीडोर के लिए तेजी से कार्य किए जाएं। अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ एवं चंपावत जिलों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की अनेक संभावनाएं हैं।
उन्होंने अधिकारियों को नालियों की सफाई एवं झाड़ी कटान के कार्य को अभियान के रूप में नियमित संचालित किया जाए। जल जीवन मिशन के कार्यों में तेजी लाने के निर्देश उन्होंने दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जटिल प्रक्रियाओं के सरलीकरण की दिशा में लगातार प्रयास होने चाहिए। प्रक्रियाओं को सरल बनाने को विभागों के स्तर पर किए गए कार्यों की शीघ्र समीक्षा की जाएगी।

बैठक में विधायकों ने सड़कों के निर्माण व सुधारीकरण, पुल निर्माण, विशेषज्ञ चिकित्सकों की आवश्यकता, बाढ़ नियंत्रण से संबंधित कार्य एवं क्षेत्र की अन्य समस्याएं मुख्यमंत्री के समक्ष रखीं। मुख्यमंत्री ने इन्हें त्वरित निस्तारित करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या, चंदन रामदास, सांसद अजय टम्टा, विधायक विशन सिंह चुफाल, फकीर राम, सुरेश गढिय़ा, प्रमोद नैनवाल, महेश जीना उपस्थित रहे।
बैठक में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव आरके सुधांशु, सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम, नितेश झा, रंजीत सिन्हा, एचसी सेमवाल समेत कई अपर सचिव एवं वर्चुअल माध्यम से कुमाऊं मंडलायुक्त दीपक रावत व संबंधित अधिकारी उपस्थित हुए।

 


 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *